17 जोड़ी मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें एक जुलाई से हाे सकती हैं रद्द, यात्री संघ ने कहा- ऐसा हुआ तो किया जाएगा विरोध

पूर्व रेल की 17 जोड़ी यानी 34 मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन 1 जुलाई से हमेशा के लिए रद्द हो सकता है। इनमें से कुछ ट्रेनें पटना होकर गुजरती हैं। रेलवे बोर्ड को इस आशय का प्रस्ताव भेजा गया है। सूत्रों की मानें तो 1 जुलाई से जारी होने वाली रेलवे की अगले समय सारिणी से भी इन गाड़ियों का नाम हटा दिया जाएगा।

इन 17 जोड़ी ट्रेनाें का परिचालन बंद करने के पीछे कारण इनका ज्यादा ठहराव बताया जा रहा है।

बिहार दैनिक यात्री संघ ने इसे जनविरोधी फैसला बताया है। संघ के सचिव मो. शोएब कुरैशी ने कहा कि इसमें से कई ट्रेनें बिहार से गुजरती हैं, इसलिए इसका सीधा असर बिहार के यात्रियों पर पड़ेगा। अगर ऐसा हुआ तो संघ विरोध करेगा। इस बाबत पूर्व मध्य रेल के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि हर महीने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए रेलवे बोर्ड के साथ होने वाली मीटिंग में रेलवे के कॉर्मशियल विभाग समेत अन्य विभागों से विभिन्न ट्रेनों के ठहराव, यात्रियों की सुविधा, अर्निंग आदि का रिब्यू किया जाता है। यह रेलवे इंटरनल मामला है। जब तक रेलवे बोर्ड से नोटिफिकेशन जारी नहीं हो जाता, ट्रेनें रद्द हो जाएंगी, यह कहना गलत होगा। वैसे एक जुलाई से हर साल ट्रेनों की टाइमिंग, परिचालन विस्तार, ठहराव आदि में मामूली बदलाव किया जाता है।

ये ट्रेनें हमेशा के लिए रद्द हो सकती हैं : {53043/53044 राजगीर-हावड़ा फास्ट पैसेंजर {13131/13132 कोलकाता-पटना एक्सप्रेस {13119/13120 सियालदह-आनंद विहार {13133/13134 सियालदह-वाराणसी एक्सप्रेस {13007/13008 हावड़ा श्री गंगानगर उद्यान आभा तूूफान एक्सप्रेस {13049/13050 हावड़ा-अमृतसर एक्सप्रेस।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here