5 बेहद जबरदस्त मुद्दे जो तय करेंगे बिहार में चुनावी नतीज़े

bihar_election_date

बिहार और उत्तर प्रदेश जिसके पास गया वो दल सरकार बनती है। बिहार में चुनाव रोचक होने वाला है, महागठबंधन जहा पुरे ज़ोर में है वही नितीश-मोदी की जोड़ी भी मजबूत लग रही है। चुनाव विशेषज्ञ मानते है की 5 बेहद जबरदस्त मुद्दे है जो चुनाव के नतीजे बिहार में तैय करेंगे।

बिहार के 5 मुद्दे जो तय करेंगे लोकसभा के नतीज़े

1. पुलवामा की घटना और पाकिस्तान को मुहतोड़ जबाब देना 
pulwama-revenge-Air-strike
देश सबसे ऊपर है और जनता ये जानती है। विरोधी दाल बार बार साबुत मांग कर और पाकिस्तान की तरह भाषा बोल अपना बुरा कर रहा है। बिहार के गाँव गाँव तक मोदी जी के पाकिस्तान को मुहतोड़ जबाब देने के  चर्चे है। इस चुनाव में ये मुद्दा सर चढ़ कर बोल रहा है और इसका सीधा फायदा NDA को होने जा रहा है।
2. एक मजबूत विपक्ष की कमी खल सकती है महागठबंधन को 
lalu tejaswi
बिहार के हर चुनाव में लालू यादव जी का विशेष स्थान रहा है। उनका न होना महागठबंधन को बहुत खल रहा है। राज्य की गंभीर समझ रखने वाले बड़े नेता लालू यादव के मुकाबले तेजस्वी यादव बहुत कमजोर नज़र आ रहे है। ये उनके रणनीति और भाषण दोनों में क्लियर दिख रहा है। इसका फायदा भी सीधे बीजेपी गठबंधन को मिलता दिख रहा है।
3. शराब बंदी फिर से महत्वपूर्ण मुद्दा होगा 
Nitish-Kumar-Bihar
चुनाव में महिलाओं की भागीदार को भूलना नसमझी होगा और उसमे महिलाओं का वोट तो नितीश कुमार ने बहुत अचे से अपने तरफ कर लिया है। शराब से पीड़ित अधिकतर ग्रामीण परिवार भूखे तड़पता था और आज स्थिति उलटी है जहा शराब घर  गया है और सुख सन्ति घर के अंदर। ये एक ऐसा मुद्दा है जो जाति से भी ऊपर उठ कर महिलाओ को प्रेरित करेगा नितीश कुमार और उनके सहयोगी दाल को वोट देने में।
4. नोटेबंदी, राफेल और GST छिटपुट असर दाल सकते है
gstcouncil-560x349 
GST और नोटेबंदी से हुए उथल पुथल से थोड़ा बहुत प्रभाव जरूर NDA को पड़ सकता है पर इसके लिए वैसे नेताओ की कमी है जो जनता तक इन खामियों को पहुँचा पाए। राफेल के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट से रहत मिलने के बाद बीजेपी को इससे ज्यादा नुकशान नहीं होता दिख रहा है।
5. जाति समीकरण और उसका प्रभाव बढ़ चढ़ के बोलेगा
Bihar caste division 
अंतिम और बहुत जरुरी मुद्दा जाती समीकरण का है। जमीन पर उतरे नेता का जात और उसका अन्य जातियों पर प्रभाव आज भी बिहार के चुनावी नतीजों पर असर डालता है जिसका मूल्यांकन सभी पार्टिया लगाती है।
अब देखना है 23 मई को बिहार किसकी तरफ जाता है, मोदी-नीतश की जोड़ी फतह हासिल करती है या महागठबंधन जीतका बिगुल बजता है। क्या लगता है आपको, कमेंट में जरूर बताये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here