Source - Lallantop

जयपुर में एक स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप बना था. ये ग्रुप 13 जून को एक टेलीफोन टैपिंग कर रहा था. अवैध हथियारों और विस्फोटकों की तस्करी की जांच को लेकर. उस दौरान एक नंबर की कॉल टैप हुई. नंबर था- 99….. कॉल रिकॉर्डिंग में जो बातें आईं, उनसे कथित तौर पर प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार को गिराने की साज़िश का पता चला है.

इस पूरी साज़िश को लेकर 10 जुलाई को एफआईआर दर्ज़ कराई गई. इसके मुताबिक- टैप किए गए फोन कॉल में बात हो रही थी कि राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट में झगड़ा चल रहा है. ऐसी स्थिति में कांग्रेस और निर्दलीय के कुछ विधायकों को तोड़कर सरकार गिराई जा सकती है.

फोन कॉल में दो विधायकों का नाम!

एफआईआर के अनुसार फोन कॉल पर कांग्रेस की विधायक रमिला खड़िया और महेंद्र सिंह मालवीय का ज़िक्र होता है कि ये दोनों लगातार बीजेपी के संपर्क में हैं. इन सारी रिकॉर्डिग्स में कथित तौर पर ये बात हो रही है कि वर्तमान सरकार को गिराकर नया मुख्यमंत्री बनाया जाए लेकिन भाजपा का कहना है कि मुख्यमंत्री हमारा होगा और उपमुख्यमंत्री को केंद्र में मंत्री बना दिया जाएगा. वहीं उप-मुख्यमंत्री का कहना है कि मुख्यमंत्री वही बनेंगे.

ये भी बात हो रही है कि  राज्यसभा चुनाव से पहले ही राजस्थान सरकार को गिराने की पूरी तैयारी की गई थी. उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट के दिल्ली दौरे के संबंध में बात होती है कि बड़े-बड़े राजनीतिक फैसले दिल्ली में हो रहे हैं और 30 जून के बाद घटनाक्रम तेजी से बदलेगा. ये भी बात होती है कि वर्तमान सरकार गिराकर, नई सरकार बनवाकर कुछ लोग एक से दो हज़ार करोड़ रुपए कमा सकते हैं. दो-तीन विधायकों और ख़ासतौर पर निर्दलीय विधायकों से पैसे देकर संपर्क करने की बात होती है.

24 कांग्रेस विधायकों ने शिकायत की

इंडिया टुडे रिपोर्ट शरत कुमार बताते हैं कि ये सारी बातें आने के बाद ही आनन-फानन में कांग्रेस ने एक विज्ञप्ति जारी की. इसमें 24 विधायकों ने हस्ताक्षर करके स्पष्ट कहा है कि वे कांग्रेस में थे, यही रहेंगे. साथ ही शिकायत की है कि बीजेपी हॉर्स ट्रेडिंग की कोशिश कर रही है. वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया का कहना है कि कांग्रेस सरकार राज्य में कोविड क्राइसिस को हल करने में नाकाम रही. इसलिए अब इस तरह के आरोप लगा रही है.

वहीं सीएम अशोक गहलोत का कहना है कि भई मुख्यमंत्री कौन नहीं बनना चाहता. लेकिन जब किसी एक को पद पर चुन लिया जाता है तो बाकी लोग उन्हें समर्थन देते हैं और यही प्रदेश में भी है. सभी लोग साथ हैं और सरकार बनी रहेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here