देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस ने आतंक मचा रखा है। दिल्ली में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में नाटकीय रूप से बढ़ोतरी हुई है। नेशनल कैपिटल में कोरोना के कहर का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि वहां कब्रिस्तान की जमीन कम पड़ने लगी है। बता दें कि दिल्ली के कुछ कब्रिस्तानों में ही कोरोना संक्रमितों के शवों को दफनाने की इजाज़त है।

दिल्ली के आईटीओ स्थित जदीद कब्रिस्तान अल इस्लाम में भी कोरोना संक्रमित शवों को दफनाया जा रहा है। यह कब्रिस्तान 5 बीघा में फैला हुआ है जिसमें 3 बीघा जमीन में शवों को दफनाया जा चुका है। जानकारी के मुताबिक इस कब्रिस्तान में पिछले 5 दिनों में 16 शवों को दफनाया गया है। कब्रिस्तान के देखरेख करने वालों की मानें तो यहां हर रोज एडवांस बुकिंग कराने के लिए लोग आ रहे हैं। जिन मरीजों का तबीयत ज्यादा खराब है उनके परिजन स्थिति को भांपते हुए पूर्व में ही बुकिंग करा लेना चाहते हैं ताकि भविष्य में परेशानी न हो। हालांकि कब्रिस्तान में पूर्व बुकिंग करने का कोई प्रावधान नहीं है। दिल्ली वक्फ बोर्ड ने रिंग रोड पर मिलेनियम पार्क स्थित कब्रिस्तान को भी कोरोना संक्रमित मरीजों को दफनाए जाने के लिए चिन्हित किया है।

बता दें कि राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस से हुए मौतों का आंकड़ा स्पष्ट नहीं है। विभिन्न अस्पतालों के आंकड़ों के अनुसार राजधानी में अबतक कुल 116 लोगों की मौत हो चुकी है वहीं राज्य सरकार सिर्फ 66 लोगों के कोरोना संक्रमण से मृत्यु होने की बात कह रही है। दिल्ली में कोरोना संक्रमित मरीजों संख्या लगभग 6 हजार तक पहुंच गया है साथ ही संक्रमण का फैलाव औसत से दुगनी तेजी से बढ़ रहा है। पूर्व के 2 महीनों में कोरोना संक्रमित मरीजों का संख्या साढ़े तीन हजार था वहीं पिछले एक सप्ताह में ही दो हजार से ज्यादा नए केस सामने आए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here