कोरोना वायरस की इस जंग में भारत की अर्थव्यवस्था भी गिरती हुई नजर आ रही है। कुछ दिन पहले ही रिजर्व बैंक आफ इंडिया (आरबीआई) ने एक बार फिर रिवर्स रेपो रेट, रेपो रेट और ब्याज दर में कटौती की थी। आरबीआई के गवर्नर शक्ति कांत दास ने मीडिया ब्रीफिंग के दौरान अनुमानित तौर पर बताया था कि वर्ष 2020-21 में भारत की ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट नेगेटिव में जा सकती है। वैसे व्यापार 13 से 32 फ़ीसदी तक घट सकता है, उन्होंने यह भी कहा था कि आरबीआई ने 40 आधार अंक की कटौती की है तथा अब रिपोर्ट 4 फ़ीसदी हुआ।
मुद्रास्फीति की दृष्टिकोण अत्याधिक अनिश्चित है तथा रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने रिवर्स रेपो रेट को घटाकर 3.35 प्रतिशत कर दिया है। बता दें कि  कोरोना महामारी के बीच प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ रुपए का राहत पैकेज की घोषणा की थी तथा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 5 दिनों में प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए इसकी जानकारी दी थी। वित्त मंत्री ने कहा था कि पैकेज भारतीय अर्थव्यवस्था को सुधारने में मदद करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here