चीन ने पूर्वी लद्दाख में डेपसांग की लामबंदी शुरू कर दी है। सूत्रों की जानकारी के अनुसार चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी दौलत बेग ओल्डी और देपसांग के इलाकों में भारत के ख़िलाफ़ नया मोर्चा खोल सकती है। सैटलाइट तस्वीरों के माध्यम से जून महीने में चीनी बेस के पास कैंप और वाहनों की मौजूदगी देखी गई। चीन ने इन बेसों का निर्माण वर्ष 2016 में ही कर दिया था लेकिन इसी महीने कुछ अन्य शिविरों को स्थापित किया गया। भारत को यह पहले से ही अनुमान था कि चीन डेपसांग में लामबंदी कर तनाव और बढ़ा सकता है इसी कारण भारतीय सेना ने उस क्षेत्र के आस पास अपनी मौजूदगी बढ़ायी।
हम आपको बता दें डेपसांग वही क्षेत्र है जिसके अधिकांश भाग पर चीन ने 1962 में क़ब्ज़ा किया था और वर्ष 2013 में भारतीय अधिकृत क्षेत्र डेपसांग पर घुसपैठ की कोशिश की लेकिन भारत के साथ एक समझौते के तहत उन्होंने उस इलाक़े में घुसपैठ नहीं की। गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हुई ख़ूनी झड़प से तनाव थमने का नाम नहीं ले रहा है अब दोनों देशों की यही राय है कि बातचीत के ज़रिए मामले को सुलझाया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here