परीक्षा परिणाम जारी होने का किया दावा: शुक्रवार शाम से ही सोशल मीडिया पर एक वेबसाईट का लिंक काफी तेजी से वायरल हो रहा है। लिंक के साथ यह दावा किया जा रहा है “बिग ब्रेकिंग।। बिहार बोर्ड दसवीं का रिजल्ट जारी कर दिया गया है। इस लिंक पर क्लिक कर जानें अपना परीक्षा परिणाम। https://bihar-board-matric-result.blogspot.com/ जब हमनें इस लिंक पर क्लिक कर परीक्षा परिणाम जानने की कोशिश की तो इस वेबसाइट की सत्यता की पोल खुल गई। दरअसल, यह किसी शातिर दिमाग की खुराफात निकली। जिसने बिहार बोर्ड के अधिकारिक वेबसाइट के नाम से ही ब्लॉगस्पॉट पर एक ब्लॉगिंग पेज डिजाईन करके परीक्षा परिणाम के असली पेज की ही तरह इस पेज की डिजाईनिंग कर दी। यह भी पढ़ें – नहीं सुधरेगा बिहार बोर्ड… मैट्रिक का रिजल्ट देने में खुद फेल हुआ BSEB, छात्र हो रहे परेशान इसमें गलत या सही कोई भी जानकारी डालने के बाद परिणाम, कभी 3rd डिविजन तो कभी 1st डिविजन बता रहा है। रौल कोड और रौल क्रमांक की जगह नाम डालने पर भी रैनडमली कोई भी परिणाम सामने आ रहा है। हमारी पड़ताल में यह वेबसाइट पूरी तरह से फर्जी साबित हुआ। हमने भी इस खुराफात में राजनीतिक मसाला डालने की कोशिश की और दी गई सूची में जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का नाम लिख कर, रॉल नंबर और रॉल कोड में कोई भी अंक अंकित किया तो वेबसाइट ने वही रैनडम परिणाम बताया। जिसमें नीतीश कुमार 3rd डिविजन से पास हुए, वहीं तेजस्वी और तेजप्रताप यादव प्रथम श्रेणी जबकि मोदी जी फेल हो गए। छात्र बेचैन… कब आएगा रिजल्ट ??? दरअसल, बिहार बोर्ड की लेटलतीफी के कारण छात्रों में बेचैनी की स्थिति बनी हुई है। छात्र व्याकुल और चिंतित भी हैं, परीक्षार्थियों की हर रात इसी उधेड़बुन में कट रही है कि उनका परीक्षा परिणाम कब और कैसा आएगा ? छात्र परीक्षा परिणाम के आधार पर ही अपने करियर का अगला लक्ष्य तय करेंगे। ऐसे में उनकी सभी अपेक्षाओं पर बोर्ड तारीख पर तारीख देकर इन्तजार की घड़ी को लंबा कर दे रहा है, जिस कारण छात्रों की बेचैनी को बढ़ती ही जा रही है। इसी कड़ी में ही कुछ खुराफाती सोशल मीडिया पर इस तरह का फर्जी खबर फैलाकर छात्रों की धड़कन बढ़ा दे रहे हैं। बता दें कि इससे पहले भी सोशल मीडिया पर कथित मैट्रिक परीक्षा 2020 के टॉपर्स की लिस्ट काफी वायरल हो रही थी। बाद में पड़ताल में सामने आया कि वह लिस्ट 2019 की थी।

बिहार बोर्ड मैट्रिक के परीक्षार्थियों को परीक्षा परिणाम का लंबा इंतजार करना पर रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा था कि शुक्रवार को निश्चित रूप से रिजल्ट प्रकाशित कर दिया जाएगा। बिहार बोर्ड ने तो रिजल्ट प्रकाशित नहीं किया है लेकिन सोशल मीडिया के महारथियों ने बिहार बोर्ड दसवीं का रिजल्ट जारी कर दिया है।

परीक्षा परिणाम जारी होने का किया दावा:

शुक्रवार शाम से ही सोशल मीडिया पर एक वेबसाईट का लिंक काफी तेजी से वायरल हो रहा है। लिंक के साथ यह दावा किया जा रहा है “बिग ब्रेकिंग।। बिहार बोर्ड दसवीं का रिजल्ट जारी कर दिया गया है। इस लिंक पर क्लिक कर जानें अपना परीक्षा परिणाम।

https://bihar-board-matric-result.blogspot.com/

जब हमनें इस लिंक पर क्लिक कर परीक्षा परिणाम जानने की कोशिश की तो इस वेबसाइट की सत्यता की पोल खुल गई। दरअसल, यह किसी शातिर दिमाग की खुराफात निकली। जिसने बिहार बोर्ड के अधिकारिक वेबसाइट के नाम से ही ब्लॉगस्पॉट पर एक ब्लॉगिंग पेज डिजाईन करके परीक्षा परिणाम के असली पेज की ही तरह इस पेज की डिजाईनिंग कर दी।

यह भी पढ़ें – नहीं सुधरेगा बिहार बोर्ड… मैट्रिक का रिजल्ट देने में खुद फेल हुआ BSEB, छात्र हो रहे परेशान

इसमें गलत या सही कोई भी जानकारी डालने के बाद परिणाम, कभी 3rd डिविजन तो कभी 1st डिविजन बता रहा है। रौल कोड और रौल क्रमांक की जगह नाम डालने पर भी रैनडमली कोई भी परिणाम सामने आ रहा है। हमारी पड़ताल में यह वेबसाइट पूरी तरह से फर्जी साबित हुआ।

हमने भी इस खुराफात में राजनीतिक मसाला डालने की कोशिश की और दी गई सूची में जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का नाम लिख कर, रॉल नंबर और रॉल कोड में कोई भी अंक अंकित किया तो वेबसाइट ने वही रैनडम परिणाम बताया। जिसमें नीतीश कुमार 3rd डिविजन से पास हुए, वहीं तेजस्वी और तेजप्रताप यादव प्रथम श्रेणी जबकि मोदी जी फेल हो गए।

छात्र बेचैन… कब आएगा रिजल्ट ???

दरअसल, बिहार बोर्ड की लेटलतीफी के कारण छात्रों में बेचैनी की स्थिति बनी हुई है। छात्र व्याकुल और चिंतित भी हैं, परीक्षार्थियों की हर रात इसी उधेड़बुन में कट रही है कि उनका परीक्षा परिणाम कब और कैसा आएगा ? छात्र परीक्षा परिणाम के आधार पर ही अपने करियर का अगला लक्ष्य तय करेंगे। ऐसे में उनकी सभी अपेक्षाओं पर बोर्ड तारीख पर तारीख देकर इन्तजार की घड़ी को लंबा कर दे रहा है, जिस कारण छात्रों की बेचैनी को बढ़ती ही जा रही है।

इसी कड़ी में ही कुछ खुराफाती सोशल मीडिया पर इस तरह का फर्जी खबर फैलाकर छात्रों की धड़कन बढ़ा दे रहे हैं। बता दें कि इससे पहले भी सोशल मीडिया पर कथित मैट्रिक परीक्षा 2020 के टॉपर्स की लिस्ट काफी वायरल हो रही थी। बाद में पड़ताल में सामने आया कि वह लिस्ट 2019 की थी।

Input – ABP

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here