सोमवार को सभी राज्यों के साथ हुई बैठक के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार रात 8 बजे देश को संबोधित करेंगे. सोमवार को मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक के अंत पीएम ने कहा था कि- कोरोना के बाद एक नई जीवनशैली विकसित होगी। टेक्नॉलॉजी को ध्यान में रखकर शिक्षा के नए मॉड्यूल विकसित करने होगें। देश में पर्यटन की असीम संभावनाएं है उसको भी नए नजरिए ये देखना होगा.

पीएम ने यह भी कहा कि प्रवासी श्रमिकों के अपने घर वापस जाने से विभिन्न राज्यों में श्रमिक की कमी जरूर होगी। परेशानी न सिर्फ उन राज्यों को होगी जहां से वे जा रहे हैं बल्कि उन राज्यों को भी होगी जहां वो वापस जा रहे हैं। मगर ये भी बात साफ है कि एक बार श्रमिक लोगों ने वापस घर जाने का मन बना ही लिया है तो उन्हें अगले 10 दिनों में उनके घर पहुंचा दिया जाएगा। इन सभी श्रम साधकों की जांच की जाय, जिनको कोरोना संक्रमण मिलेगा उनका इलाज होगा। हमें मालूम है कि ऐसा करने से कोरोना मरीजों की संख्या में एक बार उछाल आएगा। मगर इससे देश को कोविड 19 मुक्त बनाने में मदद भी मिलेगी। इन श्रमिकों के भविष्य को लेकर राज्य सरकारें नीति एवं व्यवस्था बनाए उसमें केंद्र भी पूरा मदद देगा।

हर राज्य को आर्थिक गतिविधि बढ़ाने के लिए तैयार रहना चाहिए। उद्योग और श्रम कानूनों का सरलीकरण करें। हर राज्य में इकनोमिक जोन की बनाये जाने की संभावना है। आर्थिक उन्नति के लिए राज्य सरकारें नीति बनाकर केंद्र को भेजे। कोरोना काल के बाद देश में विदेश से बड़ी बड़ी कंपनियों के आने की अपार सभावना।

उन्होंने सभी मुख्यमंत्री से कहा कि आप लोगों के उत्साह की बदौलत हम ये लडाई जीतेंगे। जो लोग पूरी बात नहीं रख पाए वो अपने सुझाव 15 मई तक भेज दिजिए। आर्थिक गतिविधियां कैसे चालू हो उस पर हम विचार कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here