भारत और चीन की चिंतामय स्तिथि को देखते हुए टैक्सी टूरिस्ट ट्रांसपोर्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय सम्राट ने यह फ़ैसला लिया है कि दिल्ली में चीनी नागरिकों को टैक्सी सेवा से वंचित रखा जाएगा। पूछने पर संजय सम्राट ने बताया कि उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि गलवान घाटी में चीनी सैनिकों ने हमारे भारतीय सैनिकों के पीठ पीछे वार किया, लगातार घुसपैठ की कोशिश तथा वह चीनी सैनिकों के व्यवहार को सिरे से नकारते हैं उन्होंने काफ़ी सोच समझ कर यह फ़ैसला लिया है। टैक्सी टूरिस्ट ट्रांसपोर्टर एसोसिएशन के अंदर कम से कम चार सौ कंपनियां आती है जिसमें तक़रीबन पचास हज़ार टैक्सियां है।
दिल्ली होटल रेस्टोरेंट एंड ओनर्स एसोसिएशन की तरफ़ से भी यह ऐलान किया गया था की किसी भी नागरिकों को उनके होटल में कमरा लेने की इजाज़त नहीं होगी। दिल्ली में लगभग 3 हज़ार होटल और गेस्ट हाउस है जिनमें कुल मिलाकर 75 हज़ार कमरे हैं। इन दिनों चीन के रवैये को देखते हुए यह क़दम उठाना ज़रूरी था, हालाँकि यह फ़ैसला केवल अभी दिल्ली तक ही सीमित है अगर चीन अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आता है तो संपूर्ण भारत चीन का बहिष्कार करेगा।
बीते सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 59 चीनी ऐप का बहिष्कार किया जिन्हें भारत में पूर्ण रूप से बैन कर दिया गया है जिसमें टिक टॉक भी शामिल है। देश व्यापी नारा चीनी बहिष्कार एक सुर में रफ़्तार पकड़ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here