बिहार में बिजली गिरने से 83 लोगों की मृत्यु हो गई है, वहीं उत्तर प्रदेश में अब तक 24 लोगों की मृत्यु हुई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस घटना पर अपने संवेदना प्रकट करते हुए ट्वीट किया है, “बिहार और उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में भारी बारिश और आकाशीय बिजली गिरने से कई लोगों के निधन का दुखद समाचार मिला, राज्य सरकार तत्परता के साथ राहत कार्यों में जुटी है, इस आपदा में जिन लोगों के अपनी जान गवानी पड़ी है उनके परिजनों के प्रति मैं अपनी संवेदना प्रकट करता हूं।” कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी ट्वीट कर दुख जाहिर किया है, “ बिहार में बिजली गिरने से 83 लोगों की मौत की खबर सुनकर स्तब्ध हुँ, भगवान उनके परिजनों को इस दुख को सहन करने की शक्ति दें। कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मेरी अपील है कि पीड़ित परिवारों की हर संभव मदद करें।

बिहार राज्य के आपदा प्रबंधन विभाग में जिलों के द्वारा फोन पर मिलने वाली जानकारी के आधार पर सूची जारी की है, जिसमें गोपालगंज 13, पूर्वी चंपारण 5, सिवान 6, दरभंगा 5, भागलपुर 6, खगड़िया 3, मधुबनी 8, पश्चिमी चंपारण 2, समस्तीपुर 1, शिवहर 1, किशनगंज 2, सारण 1, जहानाबाद 2, सीतामढ़ी 1, जमुई 2, नवादा 8, पूर्णिया 2, सुपौल 2, औरंगाबाद 3, बक्सर 2, मधेपुरा 1, कैमूर 2 मौतें हुई है। आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार सबसे ज्यादा मौतें गोपालगंज में हुई है, जहां 13 लोगों की मृत्यु हुई है।

मुआवजे की घोषणा:

मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से जारी विज्ञप्ति में मरने वाले लोगों के लिए मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की है कि वे खराब मौसम में पूरी तरह सतर्कता बरतें तथा वज्रपात से बचने के लिए आपदा प्रबंधन द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करें। मुख्यमंत्री की तरफ से यह घोषणा भी की गई है कि मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रुपए के मुआवजे की राशि प्रदान की जाएगी, बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने वज्रपात से मृत्यु होने वाले लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त किया है, ” बिहार के विभिन्न जिलों में वज्रपात  के कारण हुई आज 83 लोगों की असामयिक मौत से मर्माहत हु, मृतकों के परिजनों के प्रति शोक संवेदना व्यक्त करता हूं, भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें। सरकार से अपील है कि परिवारों तक उपयुक्त अनुग्रह राशि शीघ्र पहुंचाएं।

मौसम विभाग केंद्र पटना में आने वाले 3 दिनों में भी बिहार के कई जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है, इस अलर्ट के अनुसार कई जिलों में भारी बारिश एवं वज्रपात की आशंका है, इस कारण जानमाल की हानि, निचले स्थानों में जलजमाव, यातायात बाधित होने, बिजली सेवा बाधित होने, बारिश होने काआशंका जताई गई है। शुक्रवार के लिए राज्य के लगभग 10 जिले रेड जोन में घोषित किए गए हैं, इनमें पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, सीतामढ़ी, मधुबनी, सुपौल, अररिया, किशनगंज, पूर्णिया, सहरसा और मधेपुरा में भारी बारिश की आशंका जताई गई है। उत्तर प्रदेश में भी आकाशीय बिजली गिरने से कारण 24 लोगों की मृत्यु हुई है, सबसे ज्यादा 9 लोगों की मृत्यु देवरिया जिले में हुई है, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों के मौत पर गहरा शोक व्यक्त किया है तथा दिवंगत लोगों के परिजनों को 4-4 लाख रुपए की राहत राशि तत्काल वितरित करने के निर्देश दिए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here