वर्ल्ड साइकिल डे प्रत्येक वर्ष 3 जून को मनाया जाता है इसका मकसद लोगों को साइकिलिंग करने के लिए प्रोत्साहित करना है। यूनाइटेड स्टेट ने 3 जून 2018 को इस दिन को मनाने की पहल की थी तब दुनिया के बहुत देशों ने इस दिन को मनाने के लिए उसके साथ खड़ा हुए। भारत में जैसे राजधानी नई दिल्ली मे और कई राज्य तथा केंद्र शासित प्रदेशों में इस दिन को कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं ताकि लोगों में साइकिलिंग के प्रति रुचि बनी रहे। साइकिल चलाने से यह व्यक्ति के वजन को नियंत्रित में रखने के साथ-साथ डिप्रेशन व चिंता को भी दूर करता है साथ ही साथ शहरों में लोगों द्वारा साइकिलिंग करने पर प्रदूषण को कुछ हद तक कम करने में भी मदद मिलती है।

फायदे

यूनिवर्सिटी ऑफ कैरोलिना में एक रिसर्च के बाद पता चला कि जो लोग हफ्ते में 5 दिन कम से कम आधा घंटा साइकिल चलाते हैं वह लोग एक्सरसाइज ना करने वाले व्यक्ति के मुकाबले 50% कम बीमार पड़ते हैं।  साइकिलिंग करने वालों की मेमोरी यानी ब्रेन पावर ऐसा न करने वालों की तुलना में लगभग 15% ज्यादा होता है अमेरिका की यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर ने एक रिसर्च के बाद पाया कि साइकिलिंग करने से आपका दिल मजबूत होता है साथ ही शरीर में ब्रेन सेल्स का भी निर्माण होता रहता है।

एक्सरसाइज के तौर पर कुछ घंटे ही साइकिल करने से ब्लड सेल्स और स्क्रीन में ऑक्सीजन की पर्याप्त पूर्ति होती है। इससे आपकी त्वचा ज्यादा चमकदार और अच्छी दिखती है।  साइकिल चलाने से हमारी मांसपेशियों मजबूत होती है, हृदय भी अच्छा रहता है तथा रक्त का संचरण पूरे शरीर में बेहतर बना रहता है।  साइकिलिंग एक मनोरंजक एक्सरसाइज है, बता दे कि साइकिल चलाने वाले लोग बिल्कुल स्वस्थ रहते हैं तथा सामान्य लोग के मुकाबले उन्हें बीमारियां भी कम होती है।

मधुमेह जैसी बीमारी को भी प्रतिदिन साइकिल चलाने से नियंत्रित किया जा सकता है क्योंकि साइकिल चलाने से कोशिकाओं में उपस्थित ग्लूकोस समाप्त हो जाता है फिर रक्त में उपस्थित ग्लूकोज को कोशिकाएं अवशोषित करके उपयोग करने वाली ऊर्जा में परिवर्तित कर देती है इससे मधुमेह नियंत्रण में रहता है।

गठिया रोग को रोकने में भी साइकिलिंग करना फायदेमंद होता है क्योंकि जब हम साइकिलिंग कर रहे होते हैं तो हमारी जाँघो और निचले पैरों की मांसपेशियों का उपयोग होता है और ऐसा होने से गठिया रोग होने की भी संभावना बहुत कम हो जाती है।

ReplyForward

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here