संभव है कि आने वाले कुछ दिनों में आप जोमैटो के जरिए शराब ऑर्डर कर पाएंगे। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, शराब की जबर्दस्त डिमांड और ऑर्डर फूड डिमांड में आई गिरावट को देखते हुए जोमैटो आपके घर तक शराब पहुंचाएगी। लॉकडाउन में गैर जरूरी सामानों की डिलिवरी पर रोक के बाद पिछले दिनों जोमैटो ने ग्रॉसरी की डिलिवरी शुरू कर दी थी।


40 दिन बाद खुलीं शराब की दुकानें

25 मार्च को जब पहली बार लॉकडाउन का ऐलान किया गया था, उसी दिन से शराब की दुकानें बंद थीं। 4 मई को करीब 40 दिन बाद तीसरे चरण के लॉकडाउन में शराब की दुकानें खोलने की छूट दी गईं। नतीजा यह हुआ कि दुकान के बाहर कई किलोमीटर लंबी लाइन लग गई। सरकार ने मौके का फायदा उठाया और कई राज्यों ने शराब पर भारी भरकम कोरोना स्पेशल टैक्स लगाया। सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ता देख मुंबई में तो दो दिन के बाद ही शराब की दुकानों पर फिर से पाबंदी लगा दी गई।

शराब की होम डिलिवरी को लेकर कानून नहीं

कानून की बात करें तो भारत में अभी शराब की होम डिलिवरी को लेकर कोई कानून नहीं है। इंटरनैशनल स्पिरिट्स ऐंड वाइन असोसिएशन ऑफ इंडिया (ISWAI) चाहता है कि इसको लेकर सरकार कुछ कानून लेकर आए। जोमैटो समेत कई कंपनियां इसके समर्थन में हैं।

जहां कोरोना का असर कम, वहां डिलिवरी का प्रस्ताव

जोमैटो के सीईओ मोहित गुप्ता ने ISWAI को भेजे अपने बिजनस प्रपोजल में कहा, हमारा मानना है कि तकनीक आधारित शराब की होम डिलिवरी से रिस्पांसिबल एल्कोहॉल कंजप्शन को मजबूती मिलेगी। अलग-अलग राज्यों में शराब पीने के लिए कानून उम्र अलग-अलग (18-25 साल) है। गुप्ता ने कहा कि हम उन क्षेत्रों में डिलिवरी करना चाहते हैं जहां कोरोना का प्रकोप कम है।

Input – NB Times

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here